देश के मजदूर आंदोलन द्वारा मोदी सरकार के शासन में हाल की 8-9 जनवरी की हड़ताल समेत तीन देशव्यापी हड़तालों और कई आंदोलनों के माध्यम से उठाई गई 12-सूत्री मांगों को इस सरकार ने अपने अंतिम बजट में भी नजरअंदाज कर दिया है. बजट की तीन बड़ी घोषणाओं में शामिल असंगठित मजदूरों के लिये (जो कि 18 से 29 वर्ष के होने चाहिये) 60 साल की आयु के बाद प्रतिमाह 3000रू. पेंशन देना है जिसमें.....

कार्यक्रम/पहलकदमी/प्रतिरोध

न्यूनतम मजदूरी पर विशेषज्ञ कमेटी की रिपोर्ट मोदी सरकार का मजदूरों की मेहनत पर डाका

मोदी सरकार के श्रम मंत्रालय द्वारा नियुक्त न्यूनतम मजदूरी पर विशेषज्ञ कमेटी की रिपोर्ट मजदूरों की मेहनत पर डाका है, मजदूर वर्ग पर हमलों का जारी रूप है. विशेषज्ञ कमेटी ने राष्ट्रीय न्यूनतम मजदूरी के नाम पर अकुशल मजदूर के लिये 8,892रू. से लेकर 11,622रू. प्रति माह की मजदूरी की

वरिष्ठ समाजवादी नेता, जॉर्ज फर्नान्डेस् का 29 जनवरी 2019 को 88 वर्ष की आयु में देहांत हो गया. ऐक्टू उन्हें अपनी श्रद्धांजलि देता है.

वे एक जुझारू ट्रेड यूनियन नेता, 1974 की ऐतिहासिक रेलवे कर्मचारियों की हड़ताल के प्रमुख नेता और इमरजेंसी-विरोधी आंदोलन के साहसिक नेता के रूप में याद.....

महासंघ (गोप गुट) से सम्बद्ध बिहार राज्य चिकित्सा एवं जन-स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के प्रदेश मुख्य संरक्षक व कैमूर जिला महासंघ के सम्मानित अध्यक्ष का0 साधुशरण यादव जो उच्च रक्त चाप से ग्रसित थे, का हृदयाघात के कारण 28 नवम्बर को असामयिक निधन पीएमसीएच, पटना में ईलाज के दौरान हो गया......