Un Organised Sector

Un Organised Sector

बैरकपुर के जूट मिल श्रमिकों का जेल भरो संघर्ष

बैरकपुर, प. बंगाल के जूट मिल श्रमिकों ने ऐक्टू से संबद्ध बंगाल चटकल मजदूर फेडरेशन (बीसीएमएफ) और 20 अन्य यूनियनों के नेतृत्व में 21 जनवरी को जेल भरो संघर्ष के तहत पुलिस द्वारा लगाये बैरिकेडों को तोड़कर गिरफ्तारी दी. प्रदर्शनकारी श्रमिकों को गिरफ्तार कर टीटागढ़ पुलिस थाने ले जाया गया. इस जेल भरो संघर्ष में जूट मिल श्रमिकों की अगुवाई बीसीएमएफ के नबेंदु दासगुप्ता, बीसीएमयू के आनंदी साहू व गार्गी चटर्जी, एनजेडब्लूयू के गरीब साहू और एनएफसीयू के लियाकत अली ने किया.

संघर्ष के बलबूते आश्रितों को मिला मुआवजा और नौकरी

24 जनवरी 2019 को सिंदरी एसीसी सीमेंट फैक्ट्री में कार्यरत तीन मजदूर दब गये. उनमें से दो मजदूरों की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गई एवं एक मजदूर की मृत्यु धनबाद जालान अस्पताल में ईलाज के दौरान हुई. घटना उक्त तिथि को बी शिफ्ट में रात्रि लगभग 9 बजे हुई. मजदूरों का नाम था- गोपाल सिंह, अजित गोराई एवं निमाई मंडल. घटना की जानकारी फैक्ट्री में कार्यरत मजदूरों को दिये बगैर प्रबन्धन ने आनन-फानन में एम्बुलेंस के माध्यम से चोटिल मजदूरों को लेकर जालान अस्पताल में शिफ्ट करा दिया और खुद भाग गये. लेकिन घटना की सूचना आग की तरह फैल गयी.

पटना के कंकड़बाग फुटपाथ दुकानदारों का निगम कार्यालय के समक्ष धरना

40 से अधिक वर्षों से कंकड़बाग टेम्पो स्टैंड के निकट फुटपाथ पर कारोबार कर रहे यहां के सब्जी मार्केट एवं फुटपाथ दुकानदारों को अतिक्रमण के नाम पर नगर निगम द्वारा बार-बार उजाड़ दिए जाने तथा सम्पतियों को नष्ट कर देने से आक्रोशित सैकड़ों सब्जी विक्रेताओं व फुटपाथ दुकानदारों ने 6 दिसंबर 2018 को विरोध में तथा सभी दुकानदारों को स्थायी मार्केट बना कर देने की मांग पर  कंकड़बाग टेंपो स्टैंड पर नगर निगम कार्यालय के मुख्य गेट के पास धरना दिया.

लखनऊ में ऐक्टू का प्रदर्शन

बैटरी चालित रिक्शा (ई-रिक्शा) चालकों के उत्पीड़न एवं रेहड़ी पटरी दुकानदारों को उजाड़े जाने के विरोध में 28 दिसम्बर 2018 को ऐक्टू ने परिवर्तन चौक से जिलाधिकारी कार्यालय तक मार्च निकाल कर प्रदर्शन किया और राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा. ज्ञापन में ई-रिक्शा चालकों का उत्पीड़न बन्द करने, उनके लिये रुट तय किये करने व स्टैंड बनाने और पटरी दुकानदारों को उजाड़ना बन्द करके उन्हें रोजगार की सुरक्षा देने की मांग की गई.

एकता रेहड़ी फड़ी यूनियन (ऐक्टू) करेगी 9 जनवरी को मार्च

एकता रेहड़ी फड़ी यूनियन की जनरल बाडी मीटिंग आहलोमजरा के पार्क में हुई जिसमे एक सौ से अधिक रेहड़ी वाले शामिल हुए. साथी जवाहर की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में एक्टू चंडीगढ के प्रधान कामरेड कंवलजीत सिंह एवं सचिव सतीश कुमार विशेष रूप से शामिल हुए. मीटिंग का संचालन सुदामा ने किया.

सर्व सहमति से फैसला किया गया कि 9 जनवरी की देश व्यापी हड़ताल मे एकता यूनियन बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेगी. इस दिन हाललोमजरा से जुलूस की शक्ल में म्यूनिसिपल कमिश्नर के दफ्तर तक मार्च किया जाएगा और अपनी मांगों का मांग पत्र सौंपा जाएगा.

तमिलनाडु में ऐक्टू नेताओं का अनिश्चितकालीन अनशन

14 मई 2008 को ‘औद्योगिक रोजगार स्थायी आदेश अधिनियम’ में संशोधन कर इसे तमिलनाडु विधान सभा में सर्वसम्मति से पारित किया गया था. ‘सुमंगली योजना’, जहां प्रशिक्षुओं द्वारा ही 100 प्रतिशत उत्पादन किया जाता है, के खिलाफ उठी आवाजों के जवाब में सरकार ने यह कदम उठाया था. इस अधिनियम की धारा 10 ‘ए’ में प्रशिक्षु, बदली, अस्थायी और आकस्मिक मजदूरों के नियोजन और पुनर्नियोजन के प्रावधान हैं; जबकि धारा 10 ‘बी’ में किसी प्रतिष्ठान में स्थायी व अ-स्थायी श्रमिकों के प्रतिशत-निर्धारण की बात निहित है. बहरहाल, इस पर राष्ट्रपति की सहमति काफी देर से मिली - तर्क यह था कि इस संशोधन से निवेश पर बुरा असर पड़ेगा.

पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज मेस वर्कर्स यूनियन ने मनाई 50वीं सालगिरह

14 अगस्त को पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज मेस वर्कर्स यूनियन ने यूनियन की 50वीं सालगिरह मनाई. यह यूनियन वर्ष 2010 में ऐक्टू के साथ संबद्ध हुई थी. इसमें यूनियन द्वारा आज तक किए गए कार्यों पर चर्चा की गई. और साथ ही यूनियन कि उपलब्धियों का जिक्र हुआ, और साथ ही कमियों पर मंथन किया गया. यूनियन के प्रधान सतीश कुमार ने यूनियन द्वारा किए गए बड़े संघर्षों, जिनमें वर्करों को करोड़ों रुपयों का रुका ईपीएफ मिलने की जीत शामिल है, का जिक्र किया.

बेरोजगारी और मजबूरी में पलायन के खिलाफ गढ़वा में मार्च

झारखंड राज्य में रोजगार के अभाव में पलायन के कारण आंध्र प्रदेश के पत्थर क्रैशर प्लांट में रेजो और बाना गांव के नौजवान मजदूर मुनिप पासवान व कंचन पासवान के मारे जाने के खिलाफ ऐक्टू से संबद्ध झारखंड जनरल मजदूर यूनियन व भाकपा-माले के बैनर तले गत 7 अगस्त 2018 को गढ़वा जिला के मेराल हाई स्कूल के मैदान से मुख्य सड़क होते हुए प्रखंड कार्यालय तक प्रतिवाद मार्च निकाला गया. बाद में प्रदर्शनकारियों की ओर से झारखंड के राज्यपाल के नाम 7 सूत्री मांगपत्र प्रखंड विकास पदाधिकारी, मेराल को सौंपा गया. तत्पश्चात प्रखंड कार्यालय और मेराल डंडई चैक पर प्रतिवाद सभा की गई.

मजदूर-विरोधी, जन-विरोधी फासीवादी मोदी सरकार को हटाने के संकल्प के साथ मई दिवस के अवसर पर देशभर में कार्यक्रम आयोजित किये गये

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस के मौके पर देश भर में ऐक्टू और भाकपा-माले ने रैलियों, जुलूस और सभाओं के रूप में विविध आयोजन किए और मजदूर-विरोधी, जन-विरोधी व राष्ट्र-विरोधी फासीवादी संघ-भाजपा निजाम को शिकस्त देने का संकल्प लिया. पिछले अंक में समय की कमी के चलते हम इनकी रिपोर्ट नहीं दे सके. इस अंक में प्रस्तुत है मई दिवस कार्यक्रमों की सक्षिप्त में रिपोर्ट.

हरियाणा में ईंट भट्ठा मजदूरों के बीच ऐक्टू की पहल

हरियाणा के यमुना नगर जिले में करीब 100 ईंट भट्ठे हैं जिनमें कार्यरत हजारों मजदूरों का भारी शोषण हो रहा है. भट्ठा मालिक मजदूरी की रेट में मनमाने ढंग से भारी कटौती कर रहे हैं. यहां तक कि ये मालिक अपनी मनमर्जी की यूनियन मजदूरों पर थोप रहे हैं और उसको बीच मे लाकर कानूनी रूप से मजदूरी कटौती को जायज ठहरा रहे हैं. ऐसे में यहां के कुछ मजदूर नेताओं ने ऐक्टू से संपर्क किया और 17 अप्रैल को यमुना नगर के इलाके परवालो में मजदूरों ने सभा कर अपने को ऐक्टू से संबद्ध यूनियन ‘‘हरियाणा प्रदेश लाल झंडा भट्ठा मजदूर यूनियन’’ के साथ जोड़ा.