Un Organised Sector

Un Organised Sector

भागलपुर में ई-रिक्शा चालकों ने डीएम के समक्ष दिया धरना

अपनी विभिन्न समस्याओं व मांगों को लेकर 16 जनवरी को ई-रिक्शा चालक यूनियन (संबद्ध ऐक्टू) के बैनर तले बड़ी संख्या में चालकों ने जिला पदाधिकारी, भागलपुर (बिहार) के समक्ष धरना दिया. धरना की अध्यक्षता यूनियन के अध्यक्ष सह ऐक्टू के राज्य सचिव मुकेश मुक्त ने की.

पटियाला में कर्ज मुक्ति रैली

8 अक्टूबर 2020 को पटियाला में भाकपा-माले और ऐक्टू द्वारा ‘‘महिला कर्ज मुक्ति रैली’’ आयोजित कर मोदी सरकार पर राष्ट्रवाद और ‘आत्मनिर्भर’ भारत के नाम पर देश में कंपनी राज को फिर से लाने का आरोप लगाया. पटियाला के पुडा मैदान में आयोजित इस महिला कर्ज मुक्ति रैली में हजारों महिलाओं, किसानों, मजदूरों और युवाओं ने हिस्सा लिया. 

दिल्ली में रेहड़ी-खोखा वालों का रोजगार मार्च

20 अक्टूबर 2019 को दिल्ली के मयूर विहार फेज-3 में रेहड़ी-खोखा-पटरी उजाड़ने के खिलाफ भाकपा-माले और ऐक्टू के नेतृत्व में ‘रोज़गार मार्च’ निकाला गया. मार्च में खोड़ा कालोनी, कल्याणपुरी, मंडावली, लक्ष्मीनगर समेत पूर्वी दिल्ली के विभिन्न हिस्सों से रेहड़ी-खोखा-पटरी लगाने वालों ने हिस्सा लिया.

बोकारो में स्टील प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन

बोकारो में स्टील प्रबंधन के नगर प्रशासन के समक्ष सेंटर ऑफ स्टील वर्कर्स (सीएसडब्ल्यू-संबद्ध ऐक्टू) के नेतृत्व में 2 जुलाई 2019 को स्टील मजदूरो का प्रदर्शन आयोजित हुआ. बोकारो स्टील मजदूर व कर्मचारियों की यूनियन सीएसडब्ल्यू के नेता देवदीप सिंह दिवाकर, जेएन सिंह, केएन प्रसाद एवं जनवादी मजदूर मोर्चा के एसएन प्रसाद, सीपी सिंह, ब्रजेश कुमार आदि के नेतृत्व में संगठित-असंगठित स्टील मजदूरों ने इस प्रदर्शन के जरिए बोकारो स्टील प्रबंधन के अधिकारियों को मांगपत्र दिया और उन्हें मजदूरों की समस्याओं से अवगत कराया. 

औद्योगिक दुर्घटना की जांच रिपोर्ट 

सरकार और मालिकों के आपराधिक गठजोड़ के चलते हो रहे हैं हादसे

देश की राजधानी दिल्ली एक तरफ तो मजदूरों को रोटी के सपने दिखा अपनी ओर बुलाती है, दूसरी तरफ फैक्ट्रियों और सीवरों में उनके लिए मौत का जाल बिछाए रखती है. आए दिन दिल्ली के अलग-अलग इलाकों की फैक्ट्रियों में आग लगने की ख़बरें आती रहती हैं, दिल्ली के नालों-सीवरों के अन्दर सफाई कर्मचारियों की मौत की घटनाएं बढ़ती ही जा रही हैं. दुर्घटनाओं का सिलसिला बिना किसी सरकारी हस्तक्षेप के लगातार जारी है. यह सिर्फ काम की अनदेखी नहीं बल्कि मुनाफे के भूखे मालिकों को मजदूरों को मारने की खुली छूट देने जैसा है.

दिल्ली में औद्योगिक दुर्घटनाओं के खिलाफ प्रदर्शन

दिल्ली के औद्योगिक क्षेत्रों में हो रही दुर्घटनाओं को रोकने की मांग करते हुए 16 जुलाई को ऐक्टू समेत अन्य श्रम संगठनों ने दिल्ली के श्रम मंत्री गोपाल राय के निवास के सामने प्रदर्शन किया. 

मोटर कामगार यूनियन का सम्मेलन

मोटर कामगार यूनियन की रांची नगर कमेटी का सम्मेलन 26 मई 2019 को महेंद्र सिंह भवन, रांची में संपन्न हुआ. सम्मेलन में निजी शिक्षण संस्थानों के चालक, उपचालक, जनरेटर-पम्प ऑपरेटर और स्कूल स्टाफ वर्ग के 50 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. सम्मेलन का उद्घाटन वरिष्ठ ऐक्टू नेता सुखदेव प्रसाद ने किया. सम्मेलन को संबोधित करते हुए ऐक्टू के प्रदेश सचिव भुवनेश्वर केवट ने कहा कि केंद्र में प्रचंड बहुमत से मोदी सरकार का आना एक बड़ी आफत का संकेत है.

बैरकपुर के जूट मिल श्रमिकों का जेल भरो संघर्ष

बैरकपुर, प. बंगाल के जूट मिल श्रमिकों ने ऐक्टू से संबद्ध बंगाल चटकल मजदूर फेडरेशन (बीसीएमएफ) और 20 अन्य यूनियनों के नेतृत्व में 21 जनवरी को जेल भरो संघर्ष के तहत पुलिस द्वारा लगाये बैरिकेडों को तोड़कर गिरफ्तारी दी. प्रदर्शनकारी श्रमिकों को गिरफ्तार कर टीटागढ़ पुलिस थाने ले जाया गया. इस जेल भरो संघर्ष में जूट मिल श्रमिकों की अगुवाई बीसीएमएफ के नबेंदु दासगुप्ता, बीसीएमयू के आनंदी साहू व गार्गी चटर्जी, एनजेडब्लूयू के गरीब साहू और एनएफसीयू के लियाकत अली ने किया.

संघर्ष के बलबूते आश्रितों को मिला मुआवजा और नौकरी

24 जनवरी 2019 को सिंदरी एसीसी सीमेंट फैक्ट्री में कार्यरत तीन मजदूर दब गये. उनमें से दो मजदूरों की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गई एवं एक मजदूर की मृत्यु धनबाद जालान अस्पताल में ईलाज के दौरान हुई. घटना उक्त तिथि को बी शिफ्ट में रात्रि लगभग 9 बजे हुई. मजदूरों का नाम था- गोपाल सिंह, अजित गोराई एवं निमाई मंडल. घटना की जानकारी फैक्ट्री में कार्यरत मजदूरों को दिये बगैर प्रबन्धन ने आनन-फानन में एम्बुलेंस के माध्यम से चोटिल मजदूरों को लेकर जालान अस्पताल में शिफ्ट करा दिया और खुद भाग गये. लेकिन घटना की सूचना आग की तरह फैल गयी.

पटना के कंकड़बाग फुटपाथ दुकानदारों का निगम कार्यालय के समक्ष धरना

40 से अधिक वर्षों से कंकड़बाग टेम्पो स्टैंड के निकट फुटपाथ पर कारोबार कर रहे यहां के सब्जी मार्केट एवं फुटपाथ दुकानदारों को अतिक्रमण के नाम पर नगर निगम द्वारा बार-बार उजाड़ दिए जाने तथा सम्पतियों को नष्ट कर देने से आक्रोशित सैकड़ों सब्जी विक्रेताओं व फुटपाथ दुकानदारों ने 6 दिसंबर 2018 को विरोध में तथा सभी दुकानदारों को स्थायी मार्केट बना कर देने की मांग पर  कंकड़बाग टेंपो स्टैंड पर नगर निगम कार्यालय के मुख्य गेट के पास धरना दिया.